शुक्रवार, 13 नवंबर 2009

उनकी परेशानी...!

" मेरी आवारगी से वो परेशाँ से नज़र आये..
मेरी बेचारगी से आँखों में आंसू छलक आये..
उन्हें, दिल को मेरे, रोने की आदत के ख्यालों ने,
बनाया इस कदर हैराँ के वो हंसते नज़र आये..! "

1 टिप्पणी:

  1. उन्हें, दिल को मेरे, रोने की आदत के ख्यालों ने,
    बनाया इस कदर हैराँ के वो हंसते नज़र आये..!
    वाह वाह क्या बात है! बहुत ही उम्दा शायरी!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग पर आने के लिए और अपने अमूल्य विचार व्यक्त करने के लिए चम्पक की और से आपको बहुत बहुत धन्यवाद .आप यहाँ अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर हमें अपनी भावनाओं से अवगत करा सकते हैं ,और इसके लिए चम्पक आपका सदा आभारी रहेगा .

--धन्यवाद !