बुधवार, 21 अक्तूबर 2009

देखो छलक न जाए.....!


देखो छलक न जाये अब ये जाम तेरी आँखों से...
हमको फंसा न देना कर बदनाम तेरी आँखों से...
लुट जायेंगे सब तेरी चाहत के ये दीवाने...
उन पर लगा न देना अब इल्जाम तेरी आँखों से....!

परवाना सुनता है अब हर नाम तेरी आँखों से...
दीवाना है देख रहा अंजाम तेरी आँखों से...
खुद को साबित करने को हैं बेतरतीब निगाहें..
इनका मत लेना कोई एग्जाम तेरी आँखों से...!

दीवानों का तो है पीना अब काम तेरी आँखों से..
उनको तू ये दे देना पैगाम तेरी आँखों से...
के, परवानों का शिद्दत से यूँ दरिया में बह जाना,
कर जाता है घायल क्यूँ ये जाम तेरी आँखों से...?

1 टिप्पणी:

  1. आपके कमेन्ट के लिए थैंक्स... मैंने ये कभी नही कहा की राहुल शत प्रतिशत सही हैं.. मैंने कहा है की जो वे कर रहे हैं, उसे तो कम से कम सराहा जाना चाहिए. बुराइयाँ राहुल में भी हैं. राजनीति से वे भी काफी प्रेरित हैं. लेकिन और नेताओं से तो अच्छा ही है...

    http://www.dunalee.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग पर आने के लिए और अपने अमूल्य विचार व्यक्त करने के लिए चम्पक की और से आपको बहुत बहुत धन्यवाद .आप यहाँ अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर हमें अपनी भावनाओं से अवगत करा सकते हैं ,और इसके लिए चम्पक आपका सदा आभारी रहेगा .

--धन्यवाद !