गुरुवार, 24 दिसंबर 2009

नव-जीवन


नव!-नव जीवन की क्यारी में हरियाली ही हरियाली हो.
वर्ष-वर्ष बने यह जीवन का जिसमे केवल खुशहाली हो.

मं-मंद रहे दुःख की ध्वनि फिर कभी सुख का तीर न खाली हो.
-गणपति की हो कृपादृष्टि हाथों में धन की थाली हो.
-लघुता छोड़ श्रेष्ठता पा लें ऐसी आस निराली हो.
-मन प्रसन्न हो हर क्षण फिर होठों पे मधु की प्याली हो.
-यह वंदना करूँ मैं प्रभु से दुःख की न छाया काली हो.

हो-होना ही हो यदि तो फिर सुखमय वृक्षों की डाली हो.
आप सबों को नव-वर्ष में नव-जीवन की हार्दिक शुभकामनाएं...!.

1 टिप्पणी:

  1. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनायें!
    बहुत बढ़िया रचना लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग पर आने के लिए और अपने अमूल्य विचार व्यक्त करने के लिए चम्पक की और से आपको बहुत बहुत धन्यवाद .आप यहाँ अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर हमें अपनी भावनाओं से अवगत करा सकते हैं ,और इसके लिए चम्पक आपका सदा आभारी रहेगा .

--धन्यवाद !