गुरुवार, 24 मार्च 2011

तेरी यादें

                                


गुजरते हैं मेरे दिन तो तेरी यादों के मेले में,
तेरी यादें भी तडपाती हैं रातों को अकेले में,
तेरे खामोश  लब ने भी बड़ा मुझको सताया है,
की अब तू ही नज़र आती है तन्हाई के रेले में!


1 टिप्पणी:

  1. कभी तो जिहाले नजर निहारे कोई
    मेरा भी नाम सहरा से पुकारे कोई .........

    उत्तर देंहटाएं

ब्लॉग पर आने के लिए और अपने अमूल्य विचार व्यक्त करने के लिए चम्पक की और से आपको बहुत बहुत धन्यवाद .आप यहाँ अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त कर हमें अपनी भावनाओं से अवगत करा सकते हैं ,और इसके लिए चम्पक आपका सदा आभारी रहेगा .

--धन्यवाद !